डोनेट

‘सदानीरा’ विश्व कविता और अन्य कलाओं के प्रति समर्पित है। यह पत्रिका ग़ैरलाभकारी दृष्टिकोण से काम कर रही है। गए छह वर्षों से न्यूनतम संसाधनों में यह पत्रिका अनवरत प्रकाशित हो रही है। गत वर्ष 2017 में हमने ‘सदानीरा’ और उसकी वेबसाइट को बिल्कुल नई साज-सज्जा दी है। लेकिन हमें मिल रहा सहयोग और समर्थन हमारी योजना और परिकल्पना के आगे अपर्याप्त पड़ रहा है। हम अपने संपादक और रचनाकारों-अनुवादकों को उनके कठिन श्रम का कोई मानदेय भी नहीं दे पाते, इसका अफ़सोस हमें बना रहता है। सुधीजनों से अनुरोध है कि ‘सदानीरा’ की आजीवन सदस्यता लेकर हमारे हौसले को बढ़ाएँ और ‘सदानीरा’ को बेहतर ढंग से जारी रखने तथा उससे संबंधित योजनाओं को गति प्रदान करने में मदद करें आपके इस योगदान के बग़ैर ‘सदानीरा’ की आगे यात्रा मुश्किल लग रही है।

Sadaneera is dedicated to World Poetry and Arts. This journal is working from a non-profit standpoint. In the last six years, we have been continuously publishing this magazine with minimal resources. In the year 2017, we revamped ‘Sadaneera’ and its website in terms of presentation and have been engaged in showcasing new voices on an elegant platform. In these efforts, we are running short of funds to realize our vision and we need your support and contribution. We are not even able to compensate our participants and contributors, and we feel sorry for it. We request, learned people such as you, who are the vanguard of culture and art, to take life memberships of this magazine and advance our enthusiasm. Furthermore, magnanimous Hindi lovers are urged to contribute a minimum of twenty dollars to enable us to sustain the continuous stream of literature to you.

Please choose any of the links below for your generous offering.

भारत के बाहर बस रहे ‘सदानीरा’ के पाठक-शुभचितंक PayPal की मदद से हमे डोनेशन भेज सकते हैं।

Readers and well wishers of ‘Sadaneera’ residing outside India can send in their donations with the help of PayPal.