कविताएं ::
प्रदीप अवस्थी

PRADEEP AWASTHI poet

ऐसा करने में असमर्थ

वह सफलता
जो विनम्र बना देती है लोगों को
और थोड़ा आसान भी
वह आई ही नहीं कभी जीवन में

कटु होना स्वभाव के विपरीत रहा हमेशा

मैं उन्हें गालियां देना चाहता था
लेकिन ऐसा करने में असमर्थ
क्या करता
मैंने लोगों से मिलना ही छोड़ दिया

यूं ही
सहने लायक बना जीवन

हथेली में कांच है

अपनी ठंडी हथेलियां मेरे माथे पर मल दो
मेरी दिशाहीनता को उम्र भर लंबी सुंदर सड़क मिले

इस अंगीठी से बाहर निकालो मेरे सिर को
उन्हें सिखाओ कुछ तो तौर-तरीके

इतने साल लगे, एक-एक सरिया निकाला दिमाग से
उनका पूरा गट्ठर फिर लेकर क्यों दौड़ पड़े हो मेरे पीछे

वे बच्चे मर गए जिनकी मैंने कल्पना की थी
आज भी दुखती है मेरी कोख
तुम्हें इस पर लाठियां बरसाने में क्या मजा आता है

कितने प्यारे लोग हैं वे सब
मेरी सूखी हुई नसों को क्यों बजाते हैं फिर

युद्ध क्यों नहीं होने चाहिए, मैं इस पर कविताएं लिखना चाहता था
तुम एक लड़की को उसके स्वप्न में घुसकर दुःख देने लगे लेकिन

जो फूल हम मिलकर लगाना चाहते हैं अपने बागीचे में
तुम एक बाघिन बनकर उन्हें कुचलने चली आईं

भला क्यों बनाना चाहते हो मुझे जानवर
जब मैं भूल जाना चाहता हूं

हथेली में कांच है और मैं मुट्ठी भींचना चाहता हूं
और यह भी कि दर्द न हो

किसी को न दे इतना प्यार

इतना कच्चा था मेरा घर
इतनी झीनी थी मेरी संवेदनाओं की सरहदें
इतनी कोमल और लहूलुहान
कि चोटिल होती रहती थीं मेरे भीतर बैठे सज्जनों से

कोई क्यों रखता उनका ख्याल
जब अखबार पटे पड़े हैं हिंसा से
जब भविष्य की संभावनाओं में कोई खुशी हो सकती थी छुपी हुई
जब वे सब ढूंढ़ रहे थे सहारा
जब अपने अच्छा इंसान होने के दंभ में मैं टूट रहा था भीतर
जब मेरे सामने वे थे संभोगरत
और मैं चाकू का इस्तेमाल करना चाहता था

अरे इतने अच्छे लोग!
हे ईश्वर,
किसी को न दे
किसी को न दे इतना प्यार

संभव है

संभव है
किसी एक क्षण में चुभने वाली
गहरी व्यथा का स्रोत मैं जान न पाऊं
अपने अंदर छिपी मक्कारी को झुठलाने का कोई बहाना मुझे न मिले

एक पश्चाताप में कई वर्ष गंवा देने के बाद लगे
मैं सच्चा ही था
बस
खुद को झुठला कर मिलती थी थोड़ी सांत्वना

संभव है
जब मैं तुम्हारा हाथ थामूं तो उंगलियां किसी और की हों

सवालों के जवाब नहीं होते

उत्सवों ने मुझे और उदास किया
इसलिए मैं उत्सवों से दूर रहा

उन्हें अनिश्चितताओं से नफरत है
मैं अनिश्चितताओं में सिर डालकर उनसे लड़ने वाला सहमा सिपाही

सवालों के जवाब नहीं होते
उन्हें यही समझाना चाहता था मैं

मां ने कितनी बार आवाज लगाई
लेकिन एक साल से ज्यादा हुआ
उसका चेहरा नहीं देखा मैंने
और इस बात का कोई दु:ख भी नहीं हुआ मुझे

दुख तो वह होता है जो जीने न दे
लेकिन जीता ही रहा मैं

क्या सबसे बड़ी हार तब है
जब दुःख साथ छोड़कर चला जाता है
नहीं! नहीं!
जब दुःख का महसूस होना
साथ छोड़कर चला जाता है

ओ सखी !

मैं पीठ उतारता हूं
और तुम्हारे होंठों के पास रख आता हूं

तुम अपने दाहिने पैर का अंगूठा छोड़ जाओ
और अपनी हंसी भी

रह-रह कर घिरता चला आता है एक मौन
उसे ही तोड़ने
ओ सखी !
मैं जीभ पर लिपटा विष झाड़ता हूं
उलीचता हूं मन में जमा अहं

आओ !

इतना ही

मैंने अपशब्दों को बचाकर रखा
घुलते जाने दिया उन्हें अपनी नसों में

उन्हें नाराजगी रहती थी मुझसे
कि गर्मजोशी से नहीं मिलता

भरसक प्रयत्न के बाद भी
मैं हंस ही नहीं पाता था

उनका शोर झेल लेता था मैं
वे मेरी चुप्पी सहन नहीं कर पाते थे

मुझे पुराना कुछ याद नहीं
जो कुछ याद भी है
तो उसका कुछ असर नहीं
नया कुछ आगे दिखता नहीं
दूर दूर तक

जहां मुझे डट कर खड़े रहना था
वहां मैं ढह गया
जैसे आरी चलाई हो किसी ने पैरों में

सामाजिक प्राणी होने की कोई भी इच्छा मेरे अंदर नहीं बची

मैं बस इस घड़ी बीतते समय में जीवित हूं
इतना ही है विस्तार मेरा

***

[ प्रदीप अवस्थी की कविताएं गए कुछ वर्षों में कुछ प्रतिष्ठित प्रकाशन माध्यमों पर देखी गई हैं. वह मुंबई में रहते हैं और सिनेमा से संबद्ध हैं. उनसे awasthi.onlyme@gmail.com पर बात की जा सकती है. यह प्रस्तुति ‘सदानीरा’ के 19वें अंक में पूर्व-प्रकाशित.]

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *