कविताएँ ::
निधीश त्यागी

poems by Nidheesh Tyagi
निधीश त्यागी

कश्मीर

एक

ग़ायब हुए पते
लौटी हुई चिट्ठियाँ
जले हुए मकानों में फड़फड़ाते कबूतर
कर्फ्यू की शांति
निगाहें नहीं मिलाते तुम
उनमें थकान है और शक
इंतज़ार और यातना
राख के नीचे दबी चिंगारियों का सच
कुरेदो तभी चमकता है
चीड़ के स्याह जंगल में
जुगनुओं की तरह

कुछ तलाशती नहीं निगाहें
इतिहास के अलाव में
धुआँ ज़्यादा उड़ाते हैं
सीले हुए सपने
संयुक्त राष्ट्र का प्रस्ताव

जम्मू से श्रीनगर जाकर
निगाहों में झाँको तो
कई ग़ायब चेहरों की गुमशुदा
परछाइयाँ लहराती हैं
और उनकी गुमशुदा शनाख़्त भी

दो

सवाल नहीं पूछते
क़ब्र का पत्थर बनाने वाले हाथ
कैसे मर गया दो साल का ये बच्चा
कुछ उसे मालूम है
कुछ अंदाज़ा

तनी बंदूक़ों को देखकर
बहुत तेज़ नहीं चलते
अस्पताल से निकलकर दवाई दुकान तक
जा रहे पाँव
बुर्का नहीं रखता
दुःख ज़माने से

जब आँसू सूख चुके हों और रोना बेमानी
ज़िंदगी टूटी चप्पल की तरह
ख़ुद को घसीटती है
मौत की बग़ल से
आँख बचाकर

kashmir BY nidheesh tyagi 1
क्लिक : निधीश त्यागी

तीन

उकड़ूँ बैठकर
नून चाय का घूँट भरती ज़िंदगी
आवाज़ लगाए बग़ैर गुज़रता फेरी वाला
बेकरी पर बज रहा मुकेश का पुराना नग़मा
फिर कोई बताता है ये रेडियो कश्मीर है

दुनिया का कश्मीर अलग है
ज़िंदगी का कश्मीर अलग
ख़बरें पहुँचती हैं
कश्मीर की ज़िंदगी की उँगली पकड़
कश्मीर की दुनिया तक

लोग लौटते हैं
थोड़ा तेज़ क़दमों से घर
ख़बर बनने से पहले
फिर अख़बार पलटते हैं

चार

ठहरे हुए पानी में ख़स्ताहाल शिकारा
और उसके मालिक का एलबम
पानी में काई, एलबम पर धूल
नागरिक शास्त्र की किताब पढ़कर
घर लौटते बच्चे

झरोखों से लेकर फ़र्नीचर और
बंद दरवाज़ों से लेकर ताबूत तक
अखरोट की हर लकड़ी पर
दर्ज है जीने की सबसे शाइराना वज़हें
मौत के सबसे शहीद अंदाज़

दुनिया के सबसे ख़ूबसूरत नरक में
जब भी हवा चलती है
चिनार का सबसे ख़ूबसूरत पत्ता
आ गिरता है
फ़ौजी जूतों के पास

kashmir BY nidheesh tyagi 2
क्लिक : निधीश त्यागी

पाँच

ऐसी इबारत है
स्कूली किताबों का कश्मीर
जिसे अख़बारों में रोज़
झूठा साबित होना पड़ रहा है

सेब और बादाम के बाग़ीचों
में आ रही बास
बारूद की

थोड़ा जल्द बड़ा होता बचपन
थोड़ा जल्द सीख लेना फ़ातिहा पढ़ना
तनी बंदूक़ों और गड़ती नज़रों के बीच
थोड़ा तेज़ कदमों से निकलना
कँटीली बाड़ों के साथ-साथ
थोड़ा लंबा रास्ता, थोड़ा लंबा दिन
थोड़ा सँकरा आसमान

शब्दों से ज़्यादा सच आहटों के पास हैं
आहटों से ज़्यादा मायने सन्नाटों को
इस वक़्त जो बच्चा चौदह साल का है
उसने वही दुनिया देखी है
ज़िंदगी जहाँ से बेदख़ल है

क़ब्रों के बीच
तलाश ली गई कुछ जगह
कुछ खेल…

निधीश त्यागी (जन्म : 1969) हिंदी कवि-लेखक-पत्रकार हैं। ‘तमन्ना तुम अब कहाँ हो’ शीर्षक से उनकी गद्य-कृति पेंग्विन हिंदी से साल 2013 में शाया हो चुकी है। भारतीय समय में इन दिनों कश्मीर को लेकर नए भय उभर रहे हैं, लेकिन यहाँ प्रस्तुत कविताएँ निधीश ने 2002 के कश्मीर विधानसभा चुनाव की रिपोर्टिंग के दौरान लिखी थीं। इन कविताओं के साथ प्रस्तुत तस्वीरें भी तब की ही हैं. निधीश इन दिल्ली में रह रहे हैं। उनसे nidheeshtyagi@gmail.com पर बात की जा सकती है।

1 Comment

  1. alok August 21, 2019 at 3:00 pm

    यह वही समय था, जब निधीश जी ने कुंभ श्रृंखला की कवितायें लिखी थीं.

    Reply

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *