हावियर हिरॉद की कविताएं ::
अनुवाद : आग्नेय

हावियर हिरॉद अपने युवा साथियों के साथ

मैं कभी मृत्यु पर नहीं हंसता हूं

मैं कभी
मृत्यु पर नहीं हंसता हूं
बस, आसानी से यह हो जाता है
मैं दरख्तों और परिंदों के बीच
मर जाने से भयभीत नहीं होता हूं

मैं कभी मृत्यु पर नहीं हंसता हूं
लेकिन कभी-कभार मैं इतना प्यासा हो जाता हूं
मैं जीवन से कुछ मांग लेता हूं
कभी मैं प्यासा होता हूं तो पूछने लगता हूं
प्रश्न प्रतिदिन
होता है यह
मुझे कोई उत्तर नहीं मिलता
सिर्फ और एक कृष्णवर्णी गहन हंसी
मेरे उदर में कुलबुलाती है
जैसे मैंने कहा, मेरी यह आदत नहीं है
मैं मृत्यु पर हंसूं, तब भी
मैं उसका सफेद चेहरा और
उसके सफेद लिबास को जानता हूं

मैं मृत्यु पर नहीं हंसता हूं, तब भी
मैं उसके सफेद घर को जानता हूं
मैं उसके सफेद लिबास को जानता हूं
मैं उसकी आर्द्रता, उसकी निस्तब्धता को जानता हूं

दरअसल, यह सच है
अब तक मृत्यु मुझसे मिलने नहीं आई
इसलिए आप लोग मुझसे पूछ सकते हैं
इस प्रकरण में क्या मैं सचमुच कुछ जानता हूं

मैं कुछ भी नहीं जानता हूं
और यह सच भी है
तब भी मैं जानता हूं, जब वह आएगी
कर रहा होऊंगा मैं उसकी प्रतीक्षा
मैं पैदल उसकी प्रतीक्षा कर रहा होऊंगा या
शायद जब मैं सुबह का नाश्ता कर रहा होऊंगा
मैं सपाटता से उसकी तरफ देखूंगा
वह मुझे भयभीत नहीं कर सकती
क्योंकि मैं कभी उसके लिबास पर नहीं हंसा
मैं उसके साथ-साथ चला जाऊंगा
बिल्कुल अकेला, अकेला ही.

नदी

एक

मैं नदी हूं चौड़े पत्थरों पर उतरती
कठोर चट्टानों से टकराते बहती
मेरा पथ आंधी ने खींच रखा है
मेरे इर्द-गिर्द दरख्तों ने
बारिश का कफन ओढ़ रखा है
मैं नदी हूं उतरती हूं
जब कभी कोई सेतु अपनी
वक्रताओं से मुझे प्रतिबिंबित करता
तो मैं और अधिक उग्रता से उतरती हूं.

दो

मैं नदी हूं, एक नदी, एक नदी
सुबह की तरह…
कभी-कभी मैं कोमल और दयावान
उर्वर घाटियों में से आहिस्ता-आहिस्ता बहती
मैं मवेशियों और भले लोगों को
पीने देती हूं अपना पानी
जितना भी वे पीना चाहते हैं
दिन में बच्चे दौड़ते हुए आते हैं मेरे पास
और रात में सिरहते हुए प्रेमी
मेरी आंखों में निहारते हैं
और स्वयं डूब जाते हैं
मेरे आत्मिक जल के निपट अंधकार में.

तीन

मैं नदी हूं
लेकिन कभी-कभी बर्बर और ताकतवर
कभी-कभी जीवन या मृत्यु के प्रति
मेरा कोई आदर नहीं होता
प्रचंड प्रपातों की तरह गिरती
मैं पत्थरों को बार-बार पीटती
और उनको चकनाचूर कर देती
जानवर भागते, वे भागते
जब मैं उनके खेतों को बाढ़ से डुबो देती
जब मैं उनकी तलहटियों में छोटे-छोटे कंकड़ बो देती
जब मैं उनके घरों और चरागाहों को बाढ़ के पानी से भर देती
जब मैं उनके दरवाजों और उनके हृदय,
उनकी देह को जल आप्लावित कर देती.

चार

और यह सब होता जब मैं तीव्र गति से
उनके हृदय तक पहुंच जाती
और रक्त में घुलने लगती
तो मैं उनके अंतर्तम में समा जाती
तब मेरी उग्रता शांत हो जाती
और मैं एक दरख्त में बदल जाती
और अपने पर एक मुहर लगा देती दरख्त हो जाने की
और पत्थर की तरह खामोश हो जाती
और बिना कांटे वाले गुलाब की तरह निःशब्द हो जाती.

पांच

मैं नदी हूं
मैं सनातन आनंद की सरिता हूं
मैं पड़ोसी झोकों को महसूस करती हूं
मैं अपने चेहरों पर हवा को महसूस करती हूं
अपनी यात्रांत तक
जो पहाड़ों, नदियों, सरोवरों, मैदानों को पार करती
अंतहीन हो जाती हूं.

छह

मैं यात्रा करती एक नदी हूं
तटों, दरख्तों और शुष्क पत्थरों के साथ-साथ
यात्रा करती एक नदी हूं
मैं नदी हूं
जो तुम्हारे कानों, तुम्हारे दरवाजों
तुम्हारे खुले दिलों में उतरती हूं
मैं नदी हूं जो यात्रा करती है
घास के मैदानों, पुष्पों और कोमल गुलाबों के बीच
मैं नदी हूं जो यात्रा करती है
सड़कों, धरती, भीगे हुए आसमान के साथ-साथ
मैं नदी हूं जो यात्रा करती है
घरों, मेजों, कुर्सियों के बीच
मैं नदी हूं जो यात्रा करती है
मनुष्यों के अंतर्तम में
दरख्त, फल, गुलाब, पत्थर, हृदय, दरवाजा
हर चीज को उलट-पुलट करती
मैं नदी हूं
यात्रा करती हुई.

सात

मैं नदी हूं मध्याह्न में
लोगों के लिए गीत गाती
मैं उनकी समाधियों के समक्ष गीत गाती हूं
और मैं अपना चेहरा पवित्र
स्थलों की ओर मोड़ देती हूं.

आठ

मैं नदी हूं
मैं रात्रि हो जाती हूं
मैं बहती जाती हूं गहरे गड्ढों को भरती
मैं उन भूले-अनजाने गांवों से
उन शहरों से जो लोगों से भरपूर हैं
होती हुई बहती जाती हूं
मैं नदी हूं
मैं घास के मैदानों से बहती हूं
मेरे तटों पर, दरख्तों पर कपोतों की रंगरेलियां हैं
दरख्त मेरे साथ गाते हैं
दरख्त मेरे परिंदे वाले हृदय के साथ गाते हैं
नदियां मेरे हाथों में गाती हैं.

नौ

वह घड़ी आएगी
जब मुझे विलीन हो जाना होगा सागर में
अपने साफ पानी को मटमैले पानी में मिश्रित कर देना होगा
मुझे अपने प्रदीप्त गीत को चुप करा देना होगा
और मैं जिस तरह हर दिन की सुबह को
हैलो बुदबुदाती थी, उसको चुप करा देना
मैं अपनी आंखों को सांगर से धोऊंगी
और एक समय आएगा
जब उन विशाल सागरों में
अपने उर्वर खेतों को देख नहीं सकूंगी
मैं अपने हरे दरख्तों को
अपनी पड़ोसी बयारों से
अपने स्पष्ट आकाश को, अपने गहरे सरोवर को
अपने सूर्य, अपने मेघों को देख नहीं पाऊंगी
मैं कुछ भी नहीं देख सकूंगी
उस विराट नीले स्वर्ग के अतिरिक्त
जहां प्रत्येक वस्तु विलुप्त हो जाती है
जल के व्यापक विस्तार में
जहां एक गीत या एक दूसरी कविता का
कोई और अर्थ नहीं होगा
इसके सिवाय एक छोटी-सी नदी
या एक सशक्त सरिता मुझसे मिल जाएगी
मेरी नई प्रदीप्त जलधाराओं से
मेरी नई बुझती जलधाराओं से.

***

www.mptmagazine.com पर प्रकाशित टिमोथ एलन के अंग्रेजी अनुवाद पर आधृत यह प्रस्तुति ‘सदानीरा’ के 18वें अंक में पूर्व-प्रकाशित है और इसमें प्रयुक्त तस्वीरें LaRepublica से साभार हैं. आग्नेय हिंदी के समादृत कवि-अनुवादक और ‘सदानीरा’ के प्रधान संपादक हैं. हावियर हिरॉद के बारे में यहां पढ़ें :

49 वर्षों बाद… कवि हावियर हिरॉद का आखिरी शब्द!

2 Comments

    1. agneya maya April 4, 2018 at 4:32 am

      Thanks for your valuable view .Please ,let us
      Know about your views on Sadaneera postings often and more .

      Reply

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *