हेलेन सिक्सु के कुछ उद्धरण ::
अनुवाद : सरिता शर्मा

some quotes of french feminist writer hélène cixous
हेलेन सिक्सु

हमें उस झूठी स्त्री को मार देना चाहिए जो जीवित स्त्री को साँस लेने से रोकती है।

केवल वही पुस्तक लिखने योग्य है जिसे लिखने का हममें साहस नहीं है। जिस पुस्तक को हम लिख रहे होते हैं, वह हमें आहत करती है, हमें कँपाती है, शर्मिंदा करती है, ख़ून निकालती है।

उस प्यार से बढ़कर कोई प्यार नहीं है जिसे भेड़िया भेड़ के उस बच्चे के लिए महसूस करता है, जिसे वह खाता नहीं है।

मैं कविता में विश्वास करती हूँ।

मेरा मानना है कि कुछ ऐसे लोग हैं जिनमें चीज़ों को आपस में मिलाकर उन्हें पुनर्जीवित करने की ताक़त होती है।

लोग आपको देखते नहीं हैं, वे आपको खोजते हैं और आप पर आरोप लगाते हैं।

लेखन न कहने योग्य बातों को कहने में सफल होने का उत्कृष्ट, मुश्किल और ख़तरनाक ज़रिया है।

हमें उस भाषा को बोलना सीखना चाहिए जिसे स्त्रियाँ तब बोलती हैं, जब उनकी ग़लती निकालने वाला कोई नहीं होता है।

जो लोग जेल में बंद हैं, वे खुली हवा का महत्व उनके जेलरों से बेहतर जानते हैं।

सच्चाई कई तरह की है—जिन दीवारों को हम ख़ामोश समझते हैं, उनमें बहुत सारे गुप्त रास्ते हैं।

जाओ, उड़ो, तैरो, कूदो, उतरो, पार करो, अज्ञात से प्रेम करो, अनिश्चित से प्रेम करो, जिसे अब तक नहीं देखा है—उससे प्रेम करो… किसी से भी प्रेम मत करो—तुम जिसके हो, तुम जिसके होगे—अपने आपको खुला छोड़ दो, पुराने झूठ को हटा दो, जो नहीं किया उसे करने की हिम्मत करो, वही करने में तुम्हें ख़ुशी मिलेगी… और प्रसन्न रहो, डर लगने पर वहाँ जाओ जहाँ जाने से डरते हो, आगे बढ़ो, ग़ोता लगाओ, तुम सही मार्ग पर हो।

●●●

हेलेन सिक्सु (जन्म : 5 जून 1937) फ़्रेंच भाषा की प्रख्यात स्त्रीवादी लेखिका और विचारक हैं। यहाँ प्रस्तुत उद्धरण goodreads.com से चुने गए हैं। सरिता शर्मा सुपरिचित हिंदी लेखिका और अनुवादक हैं। उनके किए कुछ और संसारप्रसिद्ध लेखिकाओं के उद्धरण यहाँ पढ़ें :

अनाइस नीन
हाना आरेन्ट
सिमोन वेल
एमिली ब्रॉण्टे
वर्जीनिया वुल्फ
सीमोन द बोउवार
बेट्टी फ्रीडन
सुजान सौन्टैग

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *