नामवर सिंह के कुछ उद्धरण ::

namvar singh photo
नामवर सिंह, बोलते हुए

आलोचना के इतिहास के बारे में जितनी पुस्तकें लिखी गई हैं, वे अपूर्ण-अधूरी ही नहीं हैं, बल्कि उनकी जो मूल दृष्टि है, वह अभावों का दुर्दांत उदाहरण है।

आचार्य रामचंद्र शुक्ल हिंदी के पहले आलोचक थे। उनके पहले समीक्षक हुआ करते थे, जो पुस्तकों की समीक्षा या टिप्पणियाँ लिखते थे।

आलोचना का एक बहुत बड़ा काम है—परंपरा की रक्षा।

आलोचक सही अर्थों में वह है जिसके पास लोचन है। वह लोचन किसी दृष्टि से और साहित्य से ही प्राप्त होता है, रचना से प्राप्त होता है—किसी दर्शन से प्राप्त हो, संभव नहीं है।

शास्त्र में प्रसंगवश आलोचना होती है, जबकि आलोचना में सिद्धांत-चर्चा प्रसंगवश की जाती है।

आलोचना एक रचनात्मक कर्म है, यह दोयम दर्जे का काम नहीं है। यदि आप में सर्जनात्मकता नहीं है तो आप आलोचना नहीं कर सकते।

यह बहुत भारी विडंबना है कि किसी आलोचक से उसकी रचना-प्रक्रिया के बारे में पूछा जाए। वह दूसरों की रचना-प्रक्रिया के बारे में बताता है।

आलोचकों में वह आदमी बहुत गुस्ताख़ समझा जाता है जो किसी कृति के मूल्यांकन की बात करे।

यदि साहित्य को आप अनुभव की वस्तु मानेंगे तो उसका अनिवार्य नतीजा होगा कि आलोचना उपभोक्ता के लिए सहायक वस्तु होगी, उस आलोचना का अपना कोई अस्तित्व नहीं होगा।

आलोचक का काम है प्राचीन कृतियों को प्रासंगिक बनाए।

आलोचना का कार्य अतीत की रक्षा के साथ-साथ यह भी है कि वह समकालीनता में हो, अर्थात् वह समकालीन रचनाओं को जाँचे-परखे, मूल्य-निर्णय दे।

आलोचना की मुख्य चुनौती समकालीन रचनाएँ ही होती हैं।

किसी कृति की अंतर्वस्तु का विश्लेषण नहीं करना चाहिए, बल्कि अंतर्वस्तु के रूप का विश्लेषण करना चाहिए।

साहित्यकार की स्वतंत्रता अन्य आदमियों की स्वतंत्रता से थोड़ी भिन्न होती है।

समकालीन आलोचना का कोई एक पक्ष नहीं है।

सभ्यता का विकास कवि-कर्म को कठिन बना देता है।

आज भी आलोचना, आलोचना के प्रत्ययों, अवधारणाओं और पारंपरिक भाषा से इतनी जकड़ी हुई है कि वह नई बन ही नहीं सकती।

कभी मैंने स्वप्न में भी नहीं सोचा था कि आलोचक बनूँगा।

●●●

नामवर सिंह (28 जुलाई 1926—19 फ़रवरी 2019) भारतीय साहित्यिक आलोचना के सूर्य हैं। यहाँ प्रस्तुत उद्धरण हिंदी कवि-आलोचक आशीष त्रिपाठी के संपादन में प्रकाशित उनके व्याख्यानों और लेखों के संकलन ‘आलोचना और विचारधारा’ (राजकमल प्रकाशन, नई दिल्ली, पहला संस्करण : 2012) से चुने गए हैं।

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *