कविताएँ ::
अमित तिवारी

hindi poems by Amit Tiwary 301119
अमित तिवारी

आवाज़ें

मैं जब भी दर्ज कर रहा होता हूँ
अपनी आवाज़
तो मेरी आवाज़ के साथ ही
दर्ज हो जाती हैं और भी आवाज़ें
मसलन काम पर जाते कारीगर की साइकिल का किरकिराना
किसी स्त्री के आत्मविश्वासी स्वर में
आशंकाओं के कंपन
एक दफ़्तर से आती किसी नौजवान की याचनाएँ
बाज़ार से में तैरता गाढ़ा ठंडा शोर
और उसमें घूमते विपन्न लोगों की रिरियाहट
इस विषादपूर्ण असंगठित संगीत के बीच
मेरी आवाज़ कभी इतनी अकेली नहीं हो पाई
कि उसमें कर सकूँ
अपनी आत्मा से कुछ अंतरंग संवाद
या अकेले घूम आऊँ
दुःख के नितांत निजी इतिहास में
इस तरह अपने पूरे ठोस एकांत के बीच भी
मैं निरा सामाजिक रहा
आवाज़ों के अवसाद से बचता रहा
और परिभाषित होता रहा
उन्हीं आवाज़ों में निरंतर।

विस्मृति

मैं कितनी देर से कितनी दूर बैठा हूँ
मैं कितने अरसे से देख रहा हूँ
प्रेम, भय और अवसरों के प्रवाह
मैं कितनी देर से ठंडा और भूखा हूँ
कितना समय हुआ चुंबन की स्मृतियों को मिटे
कितने पहर से मैं सब झपट लेना चाहता हूँ
कितनी देर से मैं नुचे परों वाला कबूतर
एक बाज का ढोंग किए बैठा हूँ।

मुझे मत छूना

मेरी देह अब
वैसी हाड़-मांस की नहीं है
जिससे लिपट कर प्रेम किया जा सके
या जिसे पुकारा जा सके
आपद स्थितियों में बेहिचक
मैं स्मृतियों, चुंबनों, विषादों
और अंतिम भेंटों के खारेपन से बिंधा
रेत का ढूह हूँ
मैं प्रवाह की अनुपस्थिति से परिभाषित हूँ
मैं उदासी से टिक कर खड़ा हुआ हूँ
मैं फिर से बिटुर नहीं पाऊँगा
मुझे मत छूना।

हमारे हाथ

हमारे हाथ
आपस में गुँथे हुए थे
उस रस्सी की तरह
जिसके सहारे नदी में उतरा आदमी
भय से विमुक्त होकर
लगा लेता है डुबकियाँ।

हड़बड़ी

प्रेम हममें भय रोपता था
और भय बना रहा प्रेरणा
हमने एक दूसरे को इतनी हड़बड़ी में चूमा
लगता था कि
तानाशाही फ़ौजों से बचकर मिल रहे हों
किसी बदकते विद्रोह के संदेशवाहक।

तुम

मेरे लिए हो
वह लिपिहीन भाषा
जिसमें मैं नास्तिक
हताशा के समय
रुलाई रोके
किसी अज्ञात से
करता हूँ प्रार्थना।

नैश्चित्य

नाक पर टँगे चश्मे की तरह
हमेशा सामने ही रहता है
सारा नापा-जोखा हिसाब
सप्ताहांत-त्यौहार-परिवार
किलोमीटर, घंटे और किराया
ऊपर से अच्छा मौसम भी
एक आत्मीय स्पर्श की तरह
अब इस देश में अलभ्य है
और साथ ही मुझे पता है
उन तारीख़ों की गत भी
जो मेरे शुभेच्छुओं के घर में
कैलेंडर पर योजनाओं और डेडलाइंस में
घुटते हुए मिल जाते हैं
मुझे पता है
हर अगले आगंतुक का चेहरा
मुझे पता है
सभी असंभाव्यों की निश्चितता
मैं क़ब्रगाहों से भी गया-बीता हूँ
मुझे किसी की प्रतीक्षा नहीं है।

प्रेम की अराजकता

हम आख़िरी बार तब मिले
जब तय नहीं था
उस भेंट का आख़िरी होना
विरह की तमाम पीड़ाओं के बीच
हमने इतने नियोजित जीवन में
बचाए रखी प्रेम की अराजकता।

अमित तिवारी हिंदी कवि-अनुवादक हैं। उनसे और परिचय तथा ‘सदानीरा’ पर इससे पूर्व प्रकाशित उनकी कविताओं के लिए यहाँ देखें :

प्यार, परिधि और चुंबन
स्तब्धता मेरा समर्पण थी
तुम्हारी उपेक्षा मेरे लिए खाद है

1 Comment

  1. सपना शर्मा स्वप्ना दिसम्बर 10, 2019 at 5:51 अपराह्न

    तुम्हारी कविताएँ मुझे किसी सर्द रात में रेगिस्तान के बीचों बीच अकेले ले जाकर खड़ा कर देती हैं।

    Reply

प्रतिक्रिया दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *