हेनरी मातीस के कुछ उद्धरण ::
अँग्रेज़ी से अनुवाद : गार्गी मिश्र

हेनरी मातीस

खुली आँखों के बजाय मैं चीज़ों को बंद आँखों से बेहतर देख पाता हूँ।

मौलिक होने की कोशिश मत करो। सरल रहो। तकनीकी रूप से बेहतर बनो, और यदि तुम्हारे भीतर कुछ है तो वह बाहर आएगा।

मुझे एक सिंदूरी सुनहली मछली में तब्दील हो जाने से कोई परहेज़ नहीं है।

एक कलाकार को हर चीज़ ऐसे देखनी चाहिए, जैसे वह उसे पहली बार देख रहा हो। उसे अपने पूरे जीवन में चीज़ों को ऐसे देखना चाहिए, जैसे वह उन्हें तब देखता था; जब वह एक बच्चा था।

एक कलाकार को क़ैदी होने से बचना चाहिए। उसे कभी भी ख़ुद का क़ैदी, अपनी शैली का क़ैदी, अपनी प्रतिष्ठा का क़ैदी, अपनी सफलता का क़ैदी नहीं होना चाहिए।

क्या महान जापानी कलाकारों ने अपने कार्यकाल के दौरान बार-बार अपने नाम नहीं बदले? यह मुझे पसंद है। वे अपनी स्वतंत्रता को बचाना चाहते थे।

उनके लिए फूल हमेशा मौजूद हैं जो उन्हें देखना चाहते हैं।

सबसे ज़रूरी चीज़ है—उस मानसिक स्थिति में काम करना जो प्रार्थना की ओर बढ़ती हो।

एक चित्रकार की कलाकृति से ‘समय’ बहुत से मूल्य निचोड़ कर बाहर निकालता है। जब ये मूल्य पूरी तरह क्षीण हो जाते हैं, तब ये चित्र भुला दिए जाते हैं।

जितना एक चित्र आपको कुछ दे सकता है, वह उतना ही महान होता है।

शुद्धता का अर्थ सत्य नहीं है।

ज़रूरी चीज़ है, रौशनी की उस कौंध को अभिव्यक्त कर पाना जो एक मनुष्य किसी चीज़ के संपर्क में आने पर महसूस करता है।

एक कलाकार का काम अपने अवलोकन का अनुवाद करना नहीं है।

●●●

हेनरी मातीस (1869-1954) संसारप्रसिद्ध फ़्रेंच चित्रकार हैं। उनके यहाँ प्रस्तुत उद्धरण अँग्रेज़ी से हिंदी अनुवाद के लिए goodreads.com से चुने गए हैं। गार्गी मिश्र कविता, कला और अनुवाद के इलाक़े में सक्रिय रहती हैं। ‘सदानीरा’ पर उपलब्ध संसारप्रसिद्ध साहित्यकारों-विचारकों-कलाकारों के उद्धरण यहाँ पढ़ें : उद्धरण

प्रतिक्रिया दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *