जौन एलिया के कुछ उद्धरण ::

जौन एलिया

मुशायरे की निस्बत (संबंध) से देखा जाए तो शाइरी की चार क़िस्म हैं—शाइरी की एक क़िस्म वो है जो अच्छी भी हो और मुशायरे में भी पसंद की जाए, दूसरी क़िस्म वो है जो अच्छी हो मगर मुशायरे में दाद हासिल न कर सके, तीसरी क़िस्म वो है जो बुरी हो और मुशायरे में भी बुरी ही क़रार पाए और चौथी क़िस्म वो है जो बुरी हो मगर मुशायरे में बहुत पसंद की जाए।

मुशायरा एक ऐसा ख़तरनाक हंगामा है जिसमें शाइर की इज़्ज़त लम्हा-लम्हा ख़तरे की ज़द में रहती है।

फ़लसफ़ा और अदब समाज से अपना एहतराम तो करा लेते हैं, मगर उसकी किसी ज़रूरत को पूरा करने के अहल साबित नहीं होते।

हमें रोज़-मर्रा की ज़िंदगी में न किसी फ़लसफी की ज़रूरत पेश आती है, न किसी शाइर की… फिर समाज उनकी हैसियत को भला किसलिए तस्लीम करे।

आज हर वो शख़्स दानिशवर, शाइर और नक़्क़ाद होने का मुद्दई है; जो समाज का सबसे नालायक़ फ़र्द (व्यक्ति) हो।

आज हर बेमाया मीर-ओ-ग़ालिब बना हुआ है।

हर पेशा कुछ न कुछ रियाज़ चाहता है।

हम जिस समाज में रहते हैं, ख़ुदग़र्ज़ी और ख़ुदमुरादी उसका दस्तूर और हक़-तलफ़ी उसका रिवाज है।

एक शख़्स अपनी ख़ुशी के लिए दूसरे का दिल दुखाता है।

इस समाज में जो आदमी बुरा नहीं है वो बेवक़ूफ़ है।

जिस शख़्स से बुराई सरज़द (घटित) होती है, वो अपनी बुराई में तिहाई का ज़िम्मेदार है, बाक़ी की ज़िम्मेदारी उस समाज पर है जिसकी बुनियाद इस पर रखी गई है।

जो शख़्स बोलना नहीं जानता, उसे बोलना सिखाओ, लेकिन इस तवक़्क़ो (आशा) के साथ कि जब वह पहली बार रवानी से बोलेगा तो तुम्हें गाली देगा। जिसे लिखना नहीं आता, उसे लिखने की मश्क़ (अभ्यास) कराओ, पर नफ़्स (ख़ुद) की इस आमादगी (रज़ामंदी) के साथ कि जब वो लिखना सीख लेगा तो सबसे पहले तुम्हारे क़त्ल के महज़र (अधिपत्र) पर दस्तख़त करेगा।

इस समाज में तुम अगर ये सुनो कि क़ातिल मक़्तूल (क़त्ल होने वाला) का दोस्त नहीं था तो इस पर तअ’ज्जुब करो।

इस समाज में हमारी दाहिनी तरफ़ भी झूठ है और बाईं तरफ़ भी। सामने भी और पीछे भी, झूठ ही झूठ है जिसके सबब ये झल्लाहटें हैं और खोट ही खोट है जिसके बाइस ये झुँझलाहटें हैं।

एक इंसान दूसरे इंसान से मायूस हो सकता है, लेकिन इंसानियत से मायूस नहीं होना चाहिए।

तुम्हारा हर काम और हर खेल मग़रिबी (पश्चिमी) है, तुम हारे तो क्या और जीते तो क्या! बल्कि दुःख तो ये है कि तुम उनकी नक़ल उतारने में कभी-कभी जीत भी जाते हो।

मैं भी बहुत अजीब हूँ, इतना अजीब हूँ कि बस
ख़ुद को तबाह कर लिया और मलाल भी नहीं

●●●

जौन एलिया (1931-2002) उर्दू के अत्यंत लोकप्रिय कवि-लेखक हैं। उनके यहाँ प्रस्तुत उद्धरण ‘जौन एलिया : एक अजब ग़जब शायर’ (संपादक : मुन्तज़िर फ़िरोज़ाबादी, प्रकाशक : हिन्द युग्म, पहला संस्करण : 2019) शीर्षक पुस्तक से साभार हैं। ‘सदानीरा’ पर उपलब्ध कुछ और संसारप्रसिद्ध साहित्यकारों-विचारकों के उद्धरण यहाँ पढ़ें :

वी. एस. नायपॉलहुआन रामोन हिमेनेज़एरिक फ्रामहरमन हेसई. ई.कमिंग्सनोम चोम्स्कीफ़्रांत्स काफ़्काएलियास कैनेटीरवींद्रनाथ टैगोरफ़्योदोर दोस्तोयेवस्कीएडवर्ड मुंचख़लील जिब्रानगैब्रियल गार्सिया मार्केज़विलियम फॉकनरग्राहम ग्रीनजे. एम. कोएट्ज़ीएइ वेइवेइहोर्हे लुई बोर्हेसमिलान कुंदेरा

प्रतिक्रिया दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *