Posts tagged विश्व कविता

जब मैं विचारता हूँ किस तरह मेरा आलोक व्यय हुआ

कवितावार में जॉन मिल्टन की कविता :: अँग्रेज़ी से अनुवाद : रीनू तलवाड़ और प्रचण्ड प्रवीर