अदूनिस की कविताएं ::
अनुवाद : राहुल तोमर

adonis poet

गति

मैं अपनी देह के बाहर यात्रा करता हूं, लेकिन मेरी देह के भीतर ऐसे महाद्वीप मौजूद हैं जिनसे मैं अनभिज्ञ हूं.
मेरी देह बाहरी रूप से निरंतर गतिमान है.
मैं नहीं पूछता : कहां हो? या कहां थे तुम? मैं पूछता हूं, कहां जाऊं?
रेत मेरी ओर देखती है और मुझे रेत में परिवर्तित कर देती है
और पानी मेरी ओर देखता है और मुझे अपना बंधु बना लेता है.
सच में, कुछ भी नहीं है अस्त करने को सिवाय स्मृति के.

कविता के लिए

क्या तुम कभी नहीं बदलोगी अपना स्याह लिबास
जिसे पहन तुम आती हो मेरे पास?
तुम क्यों करती हो यह निवेदन कि मैं टांक दूं तुम्हारे हर शब्द पर रात का एक टुकड़ा?
कैसे और कहां से तुमने पाई है यह मुफ्तखोर ताकत
जो भेद देती है आकाश जबकि तुम कागज के टुकड़े पर रखे कुछ शब्द हो महज?

वह वृद्धावस्था नहीं बल्कि बचपन है,
जो भर देता है तुम्हारे चेहरे को झुर्रियों से.

देखो इस दिन को यह कैसे रख देता है सूरज के कांधे पर अपना सिर
और कैसे तुम्हारे सानिध्य में थका हुआ मैं रात की
जांघों के मध्य सो जाता हूँ।

वह रथ आ गया है जो तुम्हारे लिए लाता है किसी अज्ञात की चिट्ठियां

हवाओं को कह दो कि ऐसा कुछ भी नहीं है जो
तुम्हें रोक सके मेरे कपड़ों के भीतर आने से.

पर क्या तुम हवा से पूछती हो : ‘‘कि तुम क्या काम करती हो और किसके लिए?’’

सुख और दुख ओस की दो बूंदें हैं तुम्हारे माथे पर
और जीवन एक उपवन है जहां मौसम चहलकदमी करते हैं.

मैंने दो रोशनियों के दरमियान कभी कोई ऐसा युद्ध नहीं देखा
जैसा तुम्हारी और उस स्त्री की नाभि के मध्य हुआ था
जिससे बचपन में मैंने किया था प्रेम.

क्या तुम्हें याद है, मैंने कैसे उस युद्ध को देखा था?
और कैसे समय के सामने खड़े हो कहा था :
‘‘अगर तुम्हारे पास दो कान हैं जिनसे सुना जा सकता हो, तो तुम भी चल देते इस अंतरिक्ष से…
भ्रमित और अस्त-व्यस्त,
बिना किसी शुरुआत के अपने अंत की ओर.’’

क्या तुम कभी अपनी वह स्याह पोशाक बदलोगी
जिसे पहन तुम आती हो मेरे पास?

बारिशें

वह अपनी छाती से लगाए रखता है हल,
रखता है बादलों और बारिशों को अपनी हथेली पर.
उसका हल खोल देता है वह द्वार
जो खुलता है संपन्न संभावनाओं की ओर.

वह छितरा देता है भोर को अपने खेतों पर और दे देता है उसे अर्थ.
उसे कल देखा था हमने.
उसके रास्ते में एक गरम पानी का झरना था
दिन के प्रकाश के पसीने का
जो लौट चुका था उसके सीने में आराम करने के वास्ते,
लौट गए थे बादल और बारिश भी उसकी हथेली में.

गोली

सभ्यता की वाक्पटुता से सनी एक गोली घूमती है
और फाड़ देती है सांझ का चेहरा.
एक भी क्षण ऐसा नहीं बीतता जब यह दृश्य दुहराया न जाए
दर्शक एक और घूंट पीते हैं जिंदगी का और जीने लगते हैं
कोई पर्दा नहीं गिराया जाता
न कोई परछाईं, न ही कोई मध्यांतर
यह दृश्य इतिहास है
और मुख्य कलाकार, सभ्यता.

दो कवि

अनुगूंज और ध्वनि के मध्य खड़े हैं दो कवि
पहला वाला टूटे चांद की तरह बोलता है
और दूसरा उस बच्चे की भांति चुप है
जो हर रात ज्वालामुखी के हाथ रूपी
पालने में सोता है.

पेड़

मैंने कोई भाला अपने पास नहीं रखा,
न ही फोड़ा है कोई सिर
और गर्मियों में और सर्दियों में भी
मैंने प्रवास किया है गौरैया की तरह
भूख की नदी में, उसके जादुई जल-विभाजन में

मेरा राज्य पहनता है पानी का चेहरा
मैं राज करता हूं अनुपस्थिति के ऊपर
मैं राज करता हूं अचरज और दर्द में
खुले आसमानों और तूफानों में

इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि मैं पास आऊं या दूर चले जाऊं
मेरा राज्य रोशनी में है
और पृथ्वी मेरे घर का द्वार है.

भूखा

वह उकेरता है भूख अपनी किताब में,
सितारे और सड़कें,
और भर देता है पन्ने को
वायु से बने रूमाल से
और हम देखते हैं एक प्यारे सूर्य
को पलकें झपकाते हुए
और हम देखते हैं गोधूलि-वेला.

***

[ अदूनिस की यहां प्रस्तुत कविताओं का अरबी से अंग्रेजी में अनुवाद खालेद मत्तावा ने किया है. ये कविताएं अदूनिस की कविताओं के अंग्रेजी चयन में प्रकाशित हैं. अदूनिस सीरिया के प्रख्यात कवि हैं. उनका बहुत गहरा प्रभाव अरबी कविता पर पड़ा है. राहुल तोमर की कविताएं हाल के दिनों में कुछ प्रतिष्ठित प्रकाशन माध्यमों पर देखी गई हैं. विश्व कविता के अनुवाद का यह उनका पहला प्रयत्न है. वह इंदौर में रहते हैं. उनसे tomar.ihm@gmail.com पर बात की जा सकती है.]

अदूनिस का साक्षात्कार यहां पढ़ें :

‘एक रचनाकार कभी क्रांतिकारियों जैसा नहीं हो सकता’

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *